जुकरबर्ग ने लिखा 5,500 शब्दों का पोस्ट, दिया पीएम मोदी का उदाहरण



फेसबुक पर चर्चित शख्स की होती है आसान जीत जुकरबर्ग ने आगे केन्या का उदाहरण देते हुए बताया कि वहां पर गांव के गांव वॉट्सएप ग्रुप पर हैं और उनके जनप्रतिनिधि भी इसमें शामिल हैं

लंदन, एजेंसी। फेसबुक के संस्थापक मार्क जुकरबर्ग ने पारदर्शी सरकार और सोशल मीडिया के जरिए लोगों तक पहुंच बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उदाहरण दिया है। जुकरबर्ग ने फेसबुक पर 'वैश्विक समुदाय का निर्माण' विषषय पर चर्चा की। 5,500 शब्दों के पोस्ट में उन्होंने वैश्वीकरण और फेसबुक के भविष्य और सोशल मीडिया के जरिए दुनियाभर के लोगों के एक मंच पर आने के बारे में विस्तार से लिखा।

उनके इस पोस्ट को 55 हजार से ज्यादा लाइक्स मिले और करीब पांच हजार बार इसे शेयर किया गया। मोदी का जिक्र करते हुए जुकरबर्ग ने लिखा, 'मतदान के बाद सबसे ब़़डा मौका यह है कि लोगों को उनसे जु़डे मुद्दे के साथ जो़डे रखा जाए ताकि लोग केवल मत डालने तक ही सीमित न रह जाएं।

यह भी पढ़ें:

हम जनता और चुने गए नेताओं के बीच संवाद और जिम्मेदारी कायम कर सकते हैं। भारत में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अपने मंत्रियों से बैठकों और सूचनाओं की जानकारी फेसबुक पर साझा करते के लिए कहा है जिससे कि वह जनता से सीधे तौर पर प्रतिक्रिया ले सकें।'

फेसबुक पर चर्चित शख्स की होती है आसान जीत जुकरबर्ग ने आगे केन्या का उदाहरण देते हुए बताया कि वहां पर गांव के गांव वॉट्सएप ग्रुप पर हैं और उनके जनप्रतिनिधि भी इसमें शामिल हैं। उन्होंने लिखा, 'हमने भारत, इंडोनेशिया, अमेरिका से लेकर योरप तक हालिया चुनावों में देखा है कि फेसबुक पर सबसे ज्यादा फॉलो किया जाने वाला और लोगों से जु़डा रहने वाला व्यक्ति चुनाव में आसान जीत दर्ज करता है।'

गौरतलब है कि 2014 चुनाव में पीएम मोदी ने सोशल मीडिया का बखूबी इस्तेमाल किया था। सोशल मीडिया ने ली टीवी की जगह फेसबुक सीईओ ने यह भी कहा कि सोशल मीडिया ने अब टीवी की जगह ले ली है। जैसे कि 1960 में टीवी लोगों को जो़डने का साधन बना था।, 21वीं सदी में अब उसकी जगह सोशल मीडिया आ गया है।

ट्रंप का जिक्र नहीं मार्क जुकरबर्ग ने अपने पूरे पोस्ट में कहीं भी अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और उनकी नीतियों का उल्लेख नहीं किया। हालांकि उन्होंने शरणार्थियों और उन्हें फेसबुक के जरिए लोगों से मिल रही मदद का जिक्र किया और सोशल मीडिया पर एक दूसरे से जु़डे रहने के वैश्विक फायदे भी गिनाए।

स्त्रोत से पढ़ें।

एक टिप्पणी भेजें

[blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget