Show Mobile Navigation
recentpost

गुरुवार, 13 अक्तूबर 2016

अब भारत में आया चीन का नकली अंडा

admin - 8:30:00 am



तिरुवनंतपुरम : जहां एक ओर देश में चीनी वस्तुओं के बहिष्कार का माहौल है, वहीँ दूसरी ओर केरल के कई इलाकों में चीन में निर्मित कृत्रिम अंडा बिकने की खबर से सरकार चौकन्नी हो गई है. बताया जा रहा है कि यह अंडा तमिलनाडु से आया और इडुक्की जिले के रास्ते लाया गया है. राज्य की स्वास्थ्य मंत्री केके शैलजा ने जांच के आदेश दिए हैं.

गौरतलब है कि जो लोग अंडे का सेवन करते हैं उन्हें मुर्गी के अंडे से प्रोटीन और अन्य पोषक तत्वों के चलते शरीर के लिए लाभदायक होता है, लेकिन कृत्रिम अंडा केवल रासायनिक पदार्थों से बनता है जो शरीर को फायदे के बजाय नुकसान पहुंचाता है. असली अंडे की तुलना में कृत्रिम अंडे को बनाने में खर्च उससे कई गुना कम होता है. इसीलिए चीन में बड़े पैमाने पर इसका निर्माण किया जा रहा है और खपत वाले देशों में भेजा जा रहा है.

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि इस नकली अंडे का बाहरी आवरण कैल्शियम कार्बोनेट, जिप्सम पावडर और मोम से तैयार होता है, जबकि भीतर सोडियम एलिग्नेट, एलम, जिलेटिन और कैल्शियम क्लोराइड के मिश्रण को भरा जाता है. कुछ कृत्रिम अंडों के भीतर स्टार्च और राल भी पाया गया है. कृत्रिम अंडे का हल्के भूरे रंग का और बाहरी आवरण थोड़ा खुरदुरा होता है, जबकि असली का चिकना होता है. उबालने के बाद कैल्शियम कार्बोनेट का आवरण तोड़ने पर कृत्रिम अंडे का भीतरी हिस्सा असली की तुलना में कड़ा होता है. भीतर की पीली जर्दी रबर की गेंद की तरह हो जाती है और थोड़ी ऊंचाई से छोड़ने पर गेंद जैसी उछलती है.

इस नकली अंडे की एक पहचान यह है कि कृत्रिम अंडे को फोड़ते ही भीतर की सफेद और अंडे की जर्दी जल्द ही मिल जाते हैं. इसका बाहरी आवरण असल के मुकाबले थोड़ा चमकीला होता है. यदि आप कृत्रिम अंडे को खोलने से पहले हिलाएंगे तो भीतर से आवाज आएगी. इससे कोई गंध नहीं आती.

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें