Show Mobile Navigation
recentpost

शुक्रवार, 2 सितंबर 2016

,

गणेश चतुर्थी स्पेशल : अगर होना चाहते हैं धनी तो करें ये उपाय

admin - 1:57:00 pm

 

- सुबह स्नान के बाद गणेश मंदिर जाएं और गुड़ की 21 ढेली या 21 छोटे-छोटे टुकड़े चढ़ाएं। साथ ही दूर्वा भी चढ़ाएं।

- 7 नारियल की माला बनाएं और श्रीगणेश को चढ़ाएं, इससे कार्यों में आ रही बाधाएं दूर हो सकती हैं।

- श्रीगणेश को जनेऊ अर्पित करें। सिंदूर से शृंगार करें। मोदक का भोग लगाएं। दूर्वा भी चढ़ाएं। गणेश मंत्र का जाप करें।

- गणेशोत्सव के दिनों में सुबह स्नान के बाद श्रीगणेश को शुद्ध घी और गुड़ का भोग लगाएं। पूजा के बाद घी और गुड़ का दान कर दें।

- कच्चे धागे में 7 गांठ लगाएं और गणेशजी को चढ़ाएं। साथ ही गणपति जी से प्रार्थना करें कि सभी कष्ट दूर हों। पूजा के बाद यह धागा अपने पर्स में रखें।

- बड़ी से बड़ी परेशानी दूर करने के लिए किसी हाथी को हरा चारा खिलाएं और मंदिर जाकर भगवान श्रीगणेश से परेशानियों को दूर करने के लिए प्रार्थना करें।

- रोज सुबह स्नान के बाद एक थाली में चंदन से ओम् गं गणपतयै नम: मंत्र लिखें। इसके बाद इस थाली में पांच बूंदी के लड्डू रखें और गणेशजी को चढ़ाएं।

- दूर्वा की 21 गांठ गणेशजी को रोज चढ़ानी चाहिए। ऐसा करने से घर-परिवार में बरकत बनी रहती है।

- किसी पीपल के नीचे तेल का दीपक जलाएं। यह उपाय रात में किया जाना चाहिए। दीपक लगाकर घर लौट आए, पीछे पलटकर न देखें।

- किसी ब्राह्मण, जरूरतमंद व्यक्ति या गरीब बच्चों को अनाज, मिठाई दान करें। साथ ही कपड़ों का दान करना भी अच्छा रहता है।

- तालाब या नदी में मछलियों को आटे की गोलियां बनाकर खिलाएं। शास्त्रों के अनुसार इस उपाय से बड़ी-बड़ी परेशानियां भी दूर हो जाती हैं।

- नियमित रूप से श्रीगणेश का अभिषेक करने से भी घर परिवार की सभी समस्याएं दूर हो सकती हैं। साथ ही गणपति अथर्वशीर्ष का पाठ भी करें।

- गणेश मंदिर जाएं और जरूरतमंद लोगों को अपने सामथ्र्य के अनुसार धन का दान करें। दान से पुराने पापों का असर खत्म हो जाता है।

- हनुमानजी के मंदिर में तेल का दीपक जलाएं और दीपक में एक लौंग डालकर हनुमानजी की आरती करें। हनुमान चालीसा का पाठ करें।

- रोज सुबह तुलसी को जल चढ़ाएं और शाम को तुलसी के पास दीपक जलाने का उपाय शुरू करें। सुबह तुलसी के एक पत्ते का सेवन करें।

- शनि की साढ़ेसाती या ढय्या हो तो सुबह सुबह पीपल पर जल चढ़ाएं और 7 परिक्रमा करें। शाम को पीपल के नीचे दीपक भी जलाना चाहिए।

- रोज सुबह जल्दी उठें और स्नान के बाद तांबे के लोटे से सूर्य को जल अर्पित करें। जल चढ़ाने के साथ ही लाल फूल भी सूर्य को चढ़ाएं।

- किसी महालक्ष्मी मंदिर में तीन झाड़ू, गुलाब की सुगंध वाली अगरबत्ती का दान करें। ये दान किसी को बिना बताए करें।

- किसी शिव मंदिर जाएं और वहां शिवलिंग पर चावल चढ़ाएं, ध्यान रहे सभी चावल पूरे होने चाहिए। खंडित चावल नहीं चढ़ाने चाहिए।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें