Show Mobile Navigation
recentpost

बुधवार, 7 सितंबर 2016

,

जानना चाहते है किसलिए होते हैं एक नाक में दो छेद?

admin - 1:46:00 pm

मानव शरीर की संरचना को समझने की कोशिश में वैज्ञानिकों को बड़ी सफलता हाथ लगी है। वैज्ञानिकों ने मानव शरीर के हर अंग को अलग-अलग हिस्सों मे बांट कर उसे समझने की कोशिश में कामयाबी हासिल की है। और यह पता लगा लिया है कि एक नाक में दो छिद्र क्यों होते हैं ?

एक परफेक्ट मशीन है मानव शरीर
आपको बता दें कि वैज्ञानिकों ने अपने मानव शरीर एक ऐसी मशीन है जिसका हर पुर्जा बेहद सटीक है। यह रिसर्च स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी के वैज्ञानिकों ने एक दल ने किया किया है। जहां सूंघने की क्षमता और इसकी प्रक्रिया को भी रिसर्च में शामिल किया गया था।

पहला छेद बनाम दूसरा छेद
इस रिसर्च के मुताबिक पूरे दिन में हमारे दोनों नाक के छिद्रों में से एक छिद्र दूसरे छिद्र से कहीं बेहतर और ज्यादा तेजी से सांस लेता है। आपको जानकर हैरानी होगी कि यह क्षमता हर दिन बदलती रहती है।

दो छिद्रों की वजह से समझ में आती है नई गंध
वैज्ञानिकों ने बताया कि हमारी नाक के दोनो छिद्र हमें ज्यादा से ज्यादा नई चीजों की गंध को समझने में मदद करते हैं और उनकी पहचान हो पाती है। यह रोज-रोज की गंधों का एहसास देकर परेशान नहीं करती। इसे न्यूरल अडॉप्टेशन यानी तंत्रिका अनुकूलन कहते हैं।

समझदार है हमारी नाक
दरअसल हमारी नाक इतनी समझदार है कि यह ऐसी गंधों के प्रति उदासीन हो जाती है जिन्हें हम प्रतिदिन सूंघते हैं। हमारी नाक उन गंधों की पहचान तुरंत कराती है जो हमारे लिए नई होती है।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें