मोरपंख के ये 6 टोटके आज ही बदल देंगे आपकी लाइफ #totke

 

ज्योतिष में मोरपंख को सभी नौ ग्रहों का प्रतिनिधि माना गया है, विशेष तौर पर मोरपंख के कुछ ऐसे उपाय बताए गए हैं जिन्हें किसी शुभ मुहूर्त में करने से सभी समस्याओं से तुरंत छुटकारा मिल जाता है। आइए जानते हैं ऐसे ही कुछ टोटके

अपार संपत्ति पाने तथा रूके हुए काम पूरे करने के लिए

अगर आपके काम अटके हुए हैं या आपके मन में धन-वैभव की इच्छा है तो श्रीराधाकृष्ण के मंदिर में मोर पंख की स्थापना करवाएं। प्रतिदिन उस प्रतिमा की पूजा करें तथा 40वें दिन उस मोरपंख को लाकर अपनी तिजोरी या लॉकर में रख दें। उसी दिन से धन-संपत्ति में वृद्धि आरंभ हो जाएगी और लंबे समय से अटके पड़े काम भी पूरे होने लगेंगे।

शत्रु से मुक्ति पाने के लिए

कोई व्यक्ति (या शत्रु) बहुत ज्यादा परेशान कर रहा हो तो किसी मंगलवार या शनिवार को मोर के पंख पर हनुमानजी की प्रतिमा के मस्तक के सिंदूर से एक मोरपंख पर शत्रु का नाम लिखें तथा घर के मंदिर में रात भर रखें। सुबह उठकर बिना नहाए-धोए तथा बिना किसी से बात किए बहते पानी में उस मोरपंख को बहा दें। ऐसा करने से बड़े से बड़ा शत्रु भी मित्र बन जाता है और आपका साथ देने लगता है।

राहू के अशुभ प्रभाव को दूर करने के लिए

मोर सर्प का शत्रु है, अतः जिन लोगों की कुंडली में राहू बुरा असर दे रहा हो या कालसर्पदोष हो, उन्हें सदैव मोरपंख अपने साथ रखना चाहिए।

बच्चे की जिद दूर करने के लिए

अगर बच्चा बहुत ज्यादा जिद्दी हो गया है और आपकी कोई बात नहीं मानता है तो उसे रोजाना मोर पंखे से बने पंखे से हवा करें अथवा अपने सीलिंग फैन पर ही मोर पंख चिपका दें। बच्चे का जिद्दी स्वभाव कुछ ही दिनों में अपने आप सही हो जाएगा।

कालसर्पयोग दोष दूर करने के लिए

जिन लोगों की कुण्डली में कालसर्प योग हो उन्हें अपने तकिये के खोल में 7 मोर पंख सोमवार की रात्रि में डालकर उस तकिए का उपयोग करना चाहिए। इसके साथ ही बेडरूम की पश्चिम दिशा की दीवार पर मोर पंखों का पंखा जिसमें कम से कम 11 मोर पंख लगे हों लगा देना चाहिए। इससे कुंडली में राहू-केतू का अशुभ प्रभाव कम हो जाएगा।

बच्चे को नजर से बचाने के लिए

नवजात शिशु के सिरहाने पर चांदी के ताबीज में एक मोर पंख भरकर रखने से बच्चे को नजर नहीं लगेगी और उसे डर भी नहीं लगेगा।

एक टिप्पणी भेजें

[blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget