Show Mobile Navigation
recentpost

रविवार, 8 नवंबर 2015

,

धनतेरस पूजा मुहूर्त धनतेरस पर्व की आप व् आप के परिवार को अति शुभ कामनाय dhanteras 2015

admin - 10:42:00 am

09/11/2015
धनतेरस पर्व की आप व् आप के परिवार को अति शुभ कामनाय

धनतेरस पूजा मुहूर्त = 17:50 से 19:06
अवधि = 1घण्टा 15 मिनट्स
प्रदोष काल = 17:26 से 20:06
वृषभ काल = 17:50 से 19:46
त्रयोदशी तिथि प्रारम्भ = 8/नवम्बर/2015 को 16:31बजे
त्रयोदशी तिथि समाप्त = 9/नवम्बर/2015 को 19:06 बजे

2015धन्वन्तरि त्रयोदशी

धन्वन्तरि त्रयोदशी को दीवाली पूजा के दो दिन पहले मनाया जाता है। जैसा कि नाम से ज्ञात होता है इसे कृष्ण पक्ष की त्रयोदशी तिथि को मनाया जाता है। इस दिन को भगवान धन्वन्तरि, जो कि आयुर्वेद के पिता और गुरु है, उनके जन्म दिवस के रूप में मनाया जाता है। भगवान धन्वन्तरि देवताओं के चिकित्सक है और भगवान विष्णु के अवतारों में से एक माने जाते हैं। धन्वन्तरि त्रयोदशी के दिन को धन्वन्तरि जयन्ती के नाम से भी जाना जाता है।

पुराणों के अनुसार समुद्र मन्थन के दौरान धन्वन्तरि इसी दिन अमृत पात्र के साथ प्रकट हुए थे। इसीलिए जो लोग आयुर्वेद और दवाओं का अभ्यास करते हैं, उनके लिए धन्वन्तरि त्रयोदशी का दिन बहुत महत्वपूर्ण है। इस दिन लोग भगवान धन्वन्तरि की पूजा करते हैं और उनसे अच्छे स्वास्थ्य की प्रार्थना करते हैं।

इसी दिन धनत्रयोदशी या धनतेरस का पर्व भी मनाया जाता है। धनत्रयोदशी के सन्दर्भ में यह दिन धन और समृद्धि से सम्बन्धित है और लक्ष्मी-कुबेर पूजा के लिए यह दिन महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन लोग धन-सम्पत्ति और समृद्धि की प्राप्ति के लिए देवी लक्ष्मी के साथ-साथ भगवान कुबेर की पूजा करते हैं। भगवान कुबेर जिन्हें धन-सम्पत्ति का कोषाध्यक्ष माना जाता है और श्री लक्ष्मी जिन्हें धन-सम्पत्ति की देवी माना जाता है, की पूजा साथ में की जाती है।

🔅धनतेरस की बहुत बहुत शुभ कामनाय आप व् आप के परिवार को
🔅आप का व् आप के परिवार का हर दिन अति शुभ व् मंगलमय हो ।

0 comments:

एक टिप्पणी भेजें