इस शहर में दिल का जीना बड़ा मुश्किल यहाँ जख्म देनेवाले सरेआम मिलते हैं

ना होठ खुलते हैं, ना जाम मिलते हैं
इश्क के मयखाने में यही दास्तान मिलते हैं

उन शाखों पे दिल ने आशियां बनाया
जिनपे तिनकों के न कोई मकाँ मिलते हैं

मैं चल पड़ा हूं पगडंडियों पे अकेले
जहाँ ये जमीं न आसमान मिलते हैं

इस शहर में दिल का जीना बड़ा मुश्किल
यहाँ जख्म देनेवाले सरेआम मिलते हैं

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

2 दो और 4 चार लाइन शायरी Do Or Chaar Line Touching Shayari

हीर-रांझा के प्यार की कहानी- Love story of heer ranjha part-2