WhatsApp पर डाला गांधीजी का आपत्तिजनक वीडियो, ग्रुप एडमिन गिरफ्तार WhatsApp admin arrested

बिलासपुर (छत्तीसगढ़). छत्तीसगढ़ के रतनपुर में वॉट्सऐप से महात्मा गांधी पर आपत्तिजनक वीडियो जारी करने का मामला सामने आया है। वीडियो शेयर करने वाले ग्रुप एडमिन समेत दो लोगों को पुलिस ने शुक्रवार को गिरफ्तार कर लिया।

क्या है मामला
जानकारी के मुताबिक 21 साल का मनीष जायसवाल एक वॉट्सऐप ग्रुप ऑपरेट करता है। प्रदीप और आयुष भी इस ग्रुप में शामिल हैं। आयुष ने 26 अगस्त को महात्मा गांधी के खिलाफ एक आपत्तिजनक वीडियो डाला।
ग्रुप एडमिन के खिलाफ पहला मामला
प्रदीप को जब इस वीडियो के बारे में पता चला तो उसने पुलिस में इसकी शिकायत की। पुलिस ने आईटी एक्ट के तहत मनीष व आयुष को गिरफ्तार कर लिया। प्रदेश में किसी ग्रुप एडमिन के खिलाफ एफआईआर का यह पहला मामला है।

क्या होता है ग्रुप एडमिन
वॉट्सऐप ग्रुप पर संदिग्ध मैसेज वाले की पहचान ग्रुप एडमिन से की जाती है। जिस ग्रुप से मैसेज आता है, उससे पूछा जाता है कि मैसेज भेजने वाला कौन है? ऐसा इसलिए किया जाता है क्योंकि ग्रुप एडमिन ही बाकी मेंबर्स को जोड़ता है।

हो सकती है उम्रकैद
आईटी एक्ट-2008 के अनुसार, राष्ट्रद्रोह के मैसेज भेजने वाले को उम्रकैद भी हो सकती है। अश्लीलत मैसेज या इमेज भेजने पर 5 साल और अगर यह बच्चों के हों तो 7 साल की सजा और 10 लाख का जुर्माना या दोनों हो सकते हैं।
मुश्किल है पोस्ट का ओरिजनल सोर्स पता करना
वॉट्सऐप में मैसेज या फोटो किसने शेयर किए, यह पता लगाना बहुत मुश्किल होता है। 10 हजार में से 1 में ही ओरिजनल पोस्ट करने वाला का पता लग पाता है। ऐसे में ग्रुप एडमिन ही कानूनी तौर पर मैसेज के लिए जिम्मेदार होता है।
- हेमंत आदित्य, साइबर सेल प्रभारी

एक टिप्पणी भेजें

[blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget