संदेश

July, 2015 की पोस्ट दिखाई जा रही हैं

2015 हिन्दू त्यौहारों का कैलेण्डर-2015 में एकादशी-2015 में अमावस्या-पूर्णिमा

चित्र
जनवरी २०१५
०१ बृहस्पतिवार पौष पुत्रदा एकादशी
०५ सोमवार पौष पूर्णिमा
०८ बृहस्पतिवार सकट चौथ
१५ बृहस्पतिवार पोंगल , मकर संक्रान्ति
१६ शुक्रवार षटतिला एकादशी
२० मंगलवार मौनी अमावस
२४ शनिवार वसन्त पञ्चमी
२६ सोमवार रथ सप्तमी
२७ मंगलवार भीष्म अष्टमी
३० शुक्रवार जया एकादशी
फरवरी २०१५
०३ मंगलवार माघ पूर्णिमा
१३ शुक्रवार कुम्भ संक्रान्ति
१५ रविवार विजया एकादशी
१७ मंगलवार महा शिवरात्रि
मार्च २०१५
०१ रविवार आमलकी एकादशी
०५ बृहस्पतिवार होली , होलिका दहन
०६ शुक्रवार रंगवाली होली
१४ शनिवार बसोड़ा , शीतला अष्टमी
१५ रविवार मीन संक्रान्ति
१६ सोमवार पापमोचिनी एकादशी
१७ मंगलवार पापमोचिनी एकादशी
२० शुक्रवार सूर्य ग्रहण
२१ शनिवार चैत्र नवरात्रि , गुड़ी पड़वा , युगादी
२२ रविवार गौरीपूजा , गणगौर
२५ बुधवार यमुना छठ
२८ शनिवार राम नवमी
३१ मंगलवार कामदा एकादशी
अप्रैल २०१५
०४ शनिवार हनुमान जयन्ती , चन्द्र ग्रहण
१४ मंगलवार सोलर नववर्ष , मेष संक्रान्ति
१५ बुधवार बरूथिनी एकादशी
२० सोमवार परशुराम जयन्ती
२१ मंगलवार अक्षय तृतीया
२५ शनिवार गंगा सप्तमी
२७ सोमवार सीता नवमी
२९ बुधवार मोहिनी एकादशी
मई २०१५
०२ शनिवार नरसिंघ…

osho- प्रेम और सेक्स में विरोध

चित्र
आप जानकर हैरान होंगे, प्रेम और काम, प्रेम और सेक्स विरोधी चीजें हैं। जितना प्रेम विकसित होता है, सेक्स क्षीण हो
जाता है। और जितना प्रेम कम होता है, उतना सेक्स ज्यादा हो जाता है। जिस आदमी में जितना ज्यादा प्रेम होगा, उतना
उसमें सेक्स विलीन हो जाएगा। अगर आप परिपूर्ण प्रेम से भर जाएंगे, आपके भीतर सेक्स जैसी कोई चीज नहीं रह जाएगी।
और अगर आपके भीतर कोई प्रेम नहीं है, तो आपके भीतर सब सेक्स है।
सेक्स की जो शक्ति है, उसका परिवर्तन, उसका उदात्तीकरण प्रेम में होता है। इसलिए अगर सेक्स से मुक्त होना है, तो
सेक्स को दबाने से कुछ भी न होगा। उसे दबाकर कोई पागल हो सकता है। और दुनिया में जितने पागल हैं, उसमें से सौ में
से नब्बे संख्या उन लोगों की है, जिन्होंने सेक्स की शक्ति को दबाने की कोशिश की है। और यह भी शायद आपको पता होगा
कि सभ्यता जितनी विकसित होती है, उतने पागल बढ़ते जाते हैं, क्योंकि सभ्यता सबसे ज्यादा दमन सेक्स का करवाती है।
सभ्यता सबसे ज्यादा दमन, सप्रेशन सेक्स का करवाती है! और इसलिए हर आदमी अपने सेक्स को दबाता है, सिकोड़ता
है। वह दबा हुआ सेक्स विक्षिप्तता पैदा करता है, अनेक बीमारियां पैदा करत…

कई बार अनजाने में कई प्रकार कि गलतिया कर बैठते है जिसका परिणाम ठीक नहीं होता है कृपया इन बातों का ध्यान दीजिये

चित्र
कई बार अनजाने में कई प्रकार कि गलतिया कर बैठते है जिसका परिणाम ठीक नहीं होता है कृपया इन बातों का ध्यान दीजिये —
1. किसी निर्जन एकांत या जंगल आदि में मलमूत्र त्याग करने से पूर्व उस स्थान को भलीभांति देख लेना चाहिए कि वहां कोई ऐसा वृक्ष तो नहीं है जिस पर प्रेत आदि निवास करते हैं अथवा उस स्थान पर कोई मजार या कब्रिस्तान तो नहीं है।
2. किसी नदी तालाब कुआं या जलीय स्थान में थूकना या मल-मूत्र त्याग करना किसी अपराध से कम नहीं है क्योंकि जल ही जीवन है। जल को प्रदूषित करने स जल के देवता वरुण रूष्ट हो सकते हैं। 3. घर के आसपास पीपल का वृक्ष नहीं होना चाहिए क्योंकि पीपल पर प्रेतों का वास होता है। 4. सूर्य की ओर मुख करके मल-मूत्र का त्याग नहीं करना चाहिए। 5. गूलर , शीशम, मेहंदी, बबूल , कीकर आदि के वृक्षों पर भी प्रेतों का वास होता है। रात के अंधेरे में इन वृक्षों के नीचे नहीं जाना चाहिए और न ही खुशबुदार पौधों के पास जाना चाहिए। 6. महिलाये माहवारी के दिनों में चौराहे के वीच रस्ते में न जाये उन्हें अपने से दाहिने रखे
7. कहीं भी झरना, तालाब, नदी अथवा तीर्थों में पूर्णतया निर्वस्त्र होकर या नग्न हो…

फिल्मी सितारों के असली नाम

चित्र
फिल्मी सितारों के असली नाम


अशोक कुमार - कुमुदलाल गांगुली
किशोर कुमार - आभाष कुमार गांगुली
गुरुदत्त- वसंत कुमार शिवशंकर पादुकोने
राजेश खन्ना - जतिन खन्ना
राजकपूर - रणवीर राज कपूर
अमिताभ बच्चन - इंकलाब श्रीवास्तव
रजनीकांत - शिवाजरॉव गायकवाड़
मिथुन चक्रवर्ती - गौरांग चक्रवर्ती
प्रीति जिन्टा - प्रीतम सिंह जिन्टा
महिमा चौधरी - रितु चौधरी
अजय देवगन - विशाल देवगन
सनी लियोनी - करनजीत कौर वोहरा
अक्षय कुमार - राजीव हरिओम भाटिया
रेखा - भानु रेखा गणेशन
सनी देओल - अजय सिंह देओल
जॉन अब्राहम - फरहान अब्राहम
बॉबी देओल - विजय सिंह देओल
ऋतिक रोशन - ऋतिक नागरथ
रणवीर सिंह - रणवीर भावनानी
जैकी श्रॉफ - जयकिशन काकू भाई
दिलीप कुमार - युशुफ खान
जितेन्द्र - रवि कपूर
मनोज कुमार - हरिकृष्ण गोस्वामी
ए आर रहमान - ए एस दिलीप कुमार
राजकुमार - कुलभूषण पंडित
संजीव कुमार - हरिभाई जरीवाल
सलमान खान - अब्दुल रशीद सलीम
सैफ अली खान - साजिद अली खान
मल्लिका सहरावत - रीमा लाम्बा
शिल्पा शेट्टी - अश्विनी शेट्टी
अजीत - हामिद अली खान
चिरंजीव - कोइन्डेला शिवशंकर वारा प्रसाद
डैनी डेंग्जोपा- शेरिंग फित्सो डेंग्जोपा
देव आनंद - देवदत्…

गुरु पूर्णिमा आजः कुंडली में अशुभ है गुरु तो करें ये 11 उपाय

चित्र
गुरु पूर्णिमाः कुंडली में अशुभ है गुरु तो करें ये 11 उपाय
= = = = = = = = = = = = = = = = = = = = = = = = = = = जिन लोगों की जन्म कुंडलीमें बृहस्पति ग्रह (गुरु) की स्थिति शुभ नहीं होती, उन्हें अपने जीवन में अनेक समस्याओं कासामना करना पड़ता है। इस दोष का उस व्यक्ति की पढ़ाई, नौकरी, दांपत्य जीवन तथा स्वास्थ्यपर विपरीत असर पड़ता है। कुछ साधारण उपाय कर इस दोष के बुरे प्रभावों को कम किया जा सकता है। ये उपाय यदि गुरु पूर्णिमा (इस बार 31 जुलाई) के शुभ योग में किए जाएं तो इनके बहुत ही जल्दी शुभ फल प्राप्त होते हैं। ये उपाय इस प्रकार हैं-1. औषध स्नानबृहस्पति ग्रह से प्रभावित व्यक्ति को हल्दी, शक्कर, नमक, शहद, सफेद सरसों, गूलर, मुलैठी व पीले फूल पानी में डालकर (बहुत कम मात्रा में) नहाना चाहिए। यह उपाय गुरु पूर्णिमा या किसी अन्य गुरुवार से शुरू कर प्रतिदिन करना चाहिए।2. पुखराज दानजिस व्यक्ति की कुंडली में गुरु ग्रह अशुभ स्थान पर स्थित हो, उसे इस दोष के निवारण के लिए गुरु पूर्णिमा पर या गुरु पुष्य योग में ब्राह्मण को कांसा, शक्कर, हल्दी, सफेद सरसों, पीले कपड़े, घी, चने की दाल, पीले फूल, फल, सोना,…

गुरु पूर्णिमा 31 जुलाई को, जानिए क्या है महत्व। guru purnima 2015

चित्र
ब्यूरो, acitive.com / रोहित बंसल
गुरु पूर्णिमा 31 जुलाई को, जानिए क्या है महत्व
गुरु ब्रह्मा गुरुर्विष्णु: गुरुदेव महेश्वर: । गुरु साक्षात्परब्रह्म तस्मैश्री गुरुवे नम: ।। आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरू पूर्णिमा कहते हैं। हिंदू धर्म में इस पूर्णिमा का विशेष महत्व है। धर्म ग्रंथों के अनुसार इस दिन भगवान विष्णु के अवतार वेद व्यासजी का जन्म हुआ था। इन्होंने महाभारत आदि कई महान ग्रंथों की रचना की। कौरव, पाण्डव आदि सभी इन्हें गुरु मानते थे इसलिए आषाढ़ मास की पूर्णिमा को गुरु पूर्णिमा व व्यास पूर्णिमा कहा जाता है। इस बार गुरु पूर्णिमा या व्यास पूर्णिमा 31 जुलाई को मनाई जायेगी|आपको बता दें कि गुरू पूर्णिमा वर्षा ऋतु के आरंभ में आती है। इस दिन से चार महीने तक परिव्राजक साधु-संत एक ही स्थान पर रहकर ज्ञान की गंगा बहाते हैं। ये चार महीने मौसम की दृष्टि से सर्वश्रेष्ठ होते हैं। न अधिक गर्मी और न अधिक सर्दी। इसलिए अध्ययन के लिए उपयुक्त माने गए हैं। जैसे सूर्य के ताप से तप्त भूमि को वर्षा से शीतलता एवं फसल पैदा करने की शक्ति मिलती है, ऐसे ही गुरुचरण में उपस्थित साधकों को ज्ञान, शांति, भक्ति और योग …

क़ुदरत भी कलाम पर मेहरबान- rip kalam

चित्र
तीन लाख बावन हज़ार रुपएAcitylive/ब्यूरो,रोहित बंसल शिवपुरी,

मई 2006 में राष्ट्रपति कलाम का सारा परिवार उनसे मिलने दिल्ली आया. कुल मिला कर 52 लोग थे. उनके 90 साल के बड़े भाई से ले कर उनकी डेढ़ साल की परपोती भी.ये लोग आठ दिन तक राष्ट्रपति भवन में रुके. अजमेर शरीफ़ भी गए. कलाम ने उनके रुकने का किराया अपनी जेब से दिया.यहाँ तक कि एक प्याली चाय तक का भी हिसाब रखा गया और उनके जाने के बाद कलाम ने अपने अकाउंट से तीन लाख बावन हज़ार रुपए का चेक काट कर राष्ट्रपति कार्यालय को भेजा.उनके राष्ट्रपति रहते ये बात किसी को पता नहीं चली.बाद में जब उनके सचिव नायर ने उनके साथ बिताए गए दिनों पर किताब लिखी, तो पहली बार इसका ज़िक्र किया.इफ़्तार का पैसा अनाथालय कोइसी तरह नवंबर 2002 में रमज़ान के महीने में कलाम ने अपने सचिव को बुला कर पूछा, ''ये बताइए कि हम इफ़्तार भोज का आयोजन क्यों करें? वैसे भी यहां आमंत्रित लोग खाते-पीते लोग होते हैं. आप इफ़्तार पर कितना ख़र्च करते हैं?''राष्ट्रपति भवन के आतिथ्य विभाग के प्रमुख को फ़ोन लगाया गया.उन्होंने बताया कि इफ़्तार भोज पर मोटे तौर पर ढ़ाई लाख रुपए का ख़…

क्या ऐसा होना चाहिये अपने कमेंट दे।

चित्र

आज मौसम भी पूरा दिन रोया है मेरे देश ने कलाम खोया है.!! Rip apj kalam

चित्र
आज मौसम भी पूरा दिन रोया है
मेरे देश ने कलाम  खोया है.!!

देश के पूर्व राष्ट्रपति और मशहूर वैज्ञानिक एपीजे अब्दुल कलाम का निधन हो  गया है. दिल का दौरा पड़ने से सोमवार को शिलॉन्ग में उनका निधन हो गया.

83 वर्ष के अब्दुल कलाम अपनी शानदार वाक कला के लिए मशहूर थे, लेकिन खबरों के मुताबिक, एक लेक्चर के दौरान ही काल ने उन्हें अपना ग्रास बना लिया. आईआईएम शिलॉन्ग में अपने लेक्चर के दौरान ही उन्हें दिल का दौरा पड़ा, जिसके बाद वह बेहोश होकर गिर पड़े.



उन्हें तुरंत बेथानी अस्पताल लाया गया. अस्पताल में डॉक्टरों ने भरसक कोशिश की, लेकिन तब तक उनका देहांत हो चुका था.  अपनी मौत से करीब 9 घंटे पहले ही उन्होंने ट्वीट करके बताया था कि वह शिलॉन्ग आईआईएम में लेक्चर के लिए जा रहे हैं. उनका आखिरी ट्वीट यही था. 

Going to Shillong.. to take course on Livable Planet earth at iim.  With @srijanpalsingh and Sharma.
— APJ Abdul Kalam (@APJAbdulKalam) July 27, 2015

कोर्ट में एक अजीब मुकदमा आया

चित्र
कोर्ट में एक अजीब मुकदमा आया
एक सिपाही एक कुत्ते को बांध कर लायासिपाही ने जब कटघरे में आकर कुत्ता खोलाकुत्ता रहा चुपचाप, मुँह से कुछ ना बोला..!नुकीले दांतों में कुछ खून-सा नज़र आ रहा थाचुपचाप था कुत्ता, किसी से ना नजर मिला रहा था😔फिर हुआ खड़ा एक वकील ,देने लगा दलील😔बोला, इस जालिम के कर्मों से यहाँ मची तबाही है😔इसके कामों को देख कर इन्सानियत घबराई है😔ये क्रूर है, निर्दयी है, इसने तबाही मचाई है😔दो दिन पहले जन्मी एक कन्या, अपने दाँतों से खाई है😔अब ना देखो किसी की बाट😔आदेश करके उतारो इसे मौत के घाट😔जज की आँख हो गयी लाल😔तूने क्यूँ खाई कन्या, जल्दी बोल डाल😔तुझे बोलने का मौका नहीं देना चाहता😔लेकिन मजबूरी है, अब तक तो तू फांसी पर लटका पाता😔जज साहब, इसे जिन्दा मत रहने दो😔कुत्ते का वकील बोला, लेकिन इसे कुछ कहने तो दो😔फिर कुत्ते ने मुंह खोला ,और धीरे से बोला😔हाँ, मैंने वो लड़की खायी है😔अपनी कुत्तानियत निभाई है😔कुत्ते का धर्म है ना दया दिखाना😔माँस चाहे किसी का हो, देखते ही खा जाना😔पर मैं दया-धर्म से दूर नही😔खाई तो है, पर मेरा कसूर नही😔मुझे याद है, जब वो लड़की छोरी कूड़े के ढेर…

Stunning Raindrops

चित्र
Stunning Raindrop

आगे रहने वालों को ही, अग्रवाल कहते है । agarsen maharaj jayanti 2015

चित्र
उम्मीद है "अग्रसेन जयंती" तक यह हर अग्रवाल तक पहुँच जाएगी !!
अग्रवंश के गौरव हैं हम, जिगर शेर का रखते हैं !
सेवा और सहयोग की भावना, दिल में हमेशा रखते हैं !
यूँ ही नहीं सब लोग हमें, धनवान कहते हैं !
आगे रहने वालों को ही,
अग्रवाल कहते हैं !!
एक रुपईया एक ईंट का, हमको था संदेश मिला !
अग्रवंश के शिरोमणि का, सदियों पहले उपदेश मिला !!
इसीलिए सब लोग हमें, दिलदार कहते हैं !
आगे रहने वालों को ही,
अग्रवाल कहते हैं !!
ग्राम विकास या नगर विकास, रहते हैं सबसे आगे !
बड़े बड़े नेता और मंत्री, झुकते हैं अपने आगे !
घर को हमारे, राजा का दरबार कहते हैं !
आगे रहने वालों को ही,
अग्रवाल कहते हैं !!
माँस और मदिरा से रहते, बचपन से ही दूर सदा !
हमको अपनी विरासत में, पूर्वजों से संस्कार मिला !!
अनजाने भी पहली नजर में, गुणवान कहते हैं !
आगे रहने वालों को ही,
अग्रवाल कहते हैं !!
रजवाड़ों का खून है, और रजवाड़ों सी शान है !
हमको अपने कुल गोत्र पर, सदियों से अभिमान है !!
बिन कुर्सी के, लोग हमें सरकार कहते हैं !
आगे रहने वालों को ही,
अग्रवाल कहते हैं !!

Top 500 char line shayari। 500 बेस्ट चार लाइन शायरी संग्रह

चित्र
..........500 SHAYARI .....enjoy (1)
Mohabbat mujhe thi usi se..Sanam.
Yadaon me uski yeh Dil tadpta raha ..
Maut bhi meri Chahat ko rok na saki..
Kabr me bhi yeh Dil Dhadkta raha.(2)
Tumhari is ada ka kya jawab du,
apne dost ko kya uphar du,
koi achcha sa phool hota to mali se
mangvata,
jo khud gulab hai usko kya gulab du…(3)
Aapki Muskurahat ne hame behosh kar
diya,
Aapki Muskurahat ne hame behosh kar
diya,
Hum Hosh me aane hi waale the,
ki Aapne fir se muskura diya.(4)
Bina dard ke ansu bahaye nahi jate,
Bina pyar ke rishte nibhaye nahi jate,
E dost 1 baat yaad rakhna bina DIL diye
DIL paye bhi nahi jate.(5)
Mast Nazron se dekh lenaa tha
Agar tamanna thi aazmane ki,
Hum to behosh youn hi ho jaate
Kya zaroorat thi muskurane ki.(6)
Badi Muddat se chaha hai tujhe,
bade Duaon se paya hai tujhe,
tujhe bhulane ki socho bhi to kaise,
Kismat ki Lakiron se churaya hai tujhe!(7)
ek nazar teri kaher dhati hai,
ek teri chal lehrati hai,
dua dete hain hum jab tu aati jati hai,
girten hain log a…