guru bramha guru visnu guru devo mahesvra, guru sakchat parbhramha tasneh shree guruve namah

गुरु माँ है
               गुरु ही पिया है
गुरु ही दिया है
                गुरु ही मीत है
गुरु ही प्रीत है
                गुरु ही जीवन है
गुरु ही प्रकाश है
                गुरु ही जीवनज्योती हैै
गुरु ही सांस है
                गुरु ही आस है
गुरु ही प्यास हैै
                गुरु ही ज्ञान है
गुरु ही ससांर है
                  गुरु ही प्यार है
गुरु ही गीत है
                गुरु ही संगीत है
गुरु ही लहर है
                गुरु ही भीतर है
गुरु ही बाहर है
                गुरु ही बहार है
गुरु ही प्राण है
                 गुरु ही जान है
गुरु ही संबल है
                 गुरु ही आलंबन है
गुरु ही दर्पण है
                  गुरु ही धर्म है
गुरु ही कर्म है
                 गुरु ही मर्म है
गुरु ही नर्म है
                गुरु ही चमन है
गुरु ही मान है
                गुरु ही सम्मान है
गुरु ही प्राण है
                 गुरु ही जहान है
गुरु ही समाधान है
                  गुरु ही आराधना है
गुरु ही उपासना है
                    गुरु ही सगुन है
गुरु ही निर्गुण है
                    गुरु ही आदि है
गुरु ही अन्त हैै
                  गुरु ही अनन्त है
गुरु ही विलय है
                  गुरु ही प्रलय है
गुरु ही आधि है
                गुरु ही व्याधि है
गुरु ही समाधि है
                  गुरु ही जप है
गुरु ही तप है
              गुरु ही ताप है
गुरु ही यज्ञः है
                 गुरु ही हवन है
गुरु ही समिध है
                 गुरु ही समिधा है
गुरु ही आरती है
                 गुरु ही भजन है
गुरु ही भोजन है
                  गुरु ही साज है
गुरु ही वाद्य है
                 गुरु ही वन्दना है
गुरु ही आलाप है
                  गुरु ही प्यारा है
गुरु ही न्यारा है
                 गुरु ही दुलारा हैै
गुरु ही मनन है
                 गुरु ही चिंतन है
गुरु ही वंदन है
                गुरु ही चन्दन है
गुरु ही अभिनन्दन है
                गुरु ही नंदन है
गुरु ही गरिमा है
                गुरु ही महिमा है
गुरु ही चेतना है
                गुरु ही भावना है
गुरु ही गहना है
                 गुरु ही पाहुना है
गुरु ही अमृत है
                 गुरु ही खुशबू है
गुरु ही मंजिल है
                 गुरु ही सकल जहाँ है
गुरु समष्टि है
               गुरु ही व्यष्टिहै
गुरु ही सृष्टी है
                गुरु ही दृष्टि है
गुरु ही तृप्ति है
                 गुरु ही भाव है
गुरु ही प्रभाव है
               गुरु ही स्वभाव है

एक टिप्पणी भेजें

[blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget