important lesson of life जीवन का सम्पूर्ण ज्ञान इस छोटी सी कहानी में

दर्शनशास्त्र के एक प्रोफ़ेसर कक्षा में आये और उन्होंने छात्रों से कहा कि वे
आज जीवन का एक महत्वपूर्ण पाठ पढाने वाले हैं ...

उन्होंने अपने साथ लाई एक काँच की बडी़ बरनी ( जार ) टेबल पर रखा और उसमें
टेबल टेनिस की गेंदें डालने लगे और तब तक डालते रहे जब तक कि उसमें एक भी गेंद समाने की जगह नहीं बची ...
उन्होंने छात्रों से पूछा - क्या बरनी पूरी भर गई ? हाँ ...
आवाज आई ...
फ़िर प्रोफ़ेसर साहब ने छोटे - छोटे कंकर उसमें भरने शुरु किये h धीरे - धीरे बरनी को हिलाया तो काफ़ी सारे कंकर उसमें जहाँ जगह खाली थी , समा गये ,
फ़िर से प्रोफ़ेसर साहब ने पूछा , क्या अब बरनी भर गई है , छात्रों ने एक बार फ़िर हाँ ... कहा
अब प्रोफ़ेसर साहब ने रेत की थैली से हौले - हौले उस बरनी में रेत डालना शुरु किया , वह रेत भी उस जार में जहाँ संभव था बैठ गई , अब छात्र अपनी नादानी पर हँसे ...
फ़िर प्रोफ़ेसर साहब ने पूछा , क्यों अब तो यह बरनी पूरी भर गई ना ? हाँ
.. अब तो पूरी भर गई है .. सभी ने एक स्वर में कहा ..

सर ने टेबल के नीचे से
चाय के दो कप निकालकर उसमें की चाय जार में डाली , चाय भी रेत के बीच स्थित
थोडी़ सी जगह में सोख ली गई ...

प्रोफ़ेसर साहब ने गंभीर आवाज में समझाना शुरु किया

इस काँच की बरनी को तुम लोग अपना जीवन समझो ....

टेबल टेनिस की गेंदें सबसे महत्वपूर्ण भाग अर्थात भगवान , परिवार , बच्चे , मित्र , स्वास्थ्य और शौक हैं ,

छोटे कंकर मतलब तुम्हारी नौकरी , कार , बडा़ मकान आदि हैं , और

रेत का मतलब और भी छोटी - छोटी बेकार सी बातें , मनमुटाव , झगडे़ है ..

अब यदि तुमने काँच की बरनी में सबसे पहले रेत भरी होती तो टेबल टेनिस की गेंदों और कंकरों के लिये जगह ही नहीं बचती , या
कंकर भर दिये होते तो गेंदें नहीं भर पाते , रेत जरूर आ सकती थी ...
ठीक यही बात जीवन पर लागू होती है ...

यदि तुम छोटी - छोटी बातों के पीछे पडे़ रहोगे
और अपनी ऊर्जा उसमें नष्ट करोगे तो तुम्हारे पास मुख्य बातों के लिये अधिक समय
नहीं रहेगा ...

मन के सुख के लिये क्या जरूरी है ये तुम्हें तय करना है । अपने
बच्चों के साथ खेलो , बगीचे में पानी डालो , सुबह पत्नी के साथ घूमने निकल जाओ ,
घर के बेकार सामान को बाहर निकाल फ़ेंको , मेडिकल चेक - अप करवाओ ...
टेबल टेनिस गेंदों की फ़िक्र पहले करो , वही महत्वपूर्ण है ... पहले तय करो कि क्या जरूरी है
... बाकी सब तो रेत है ..
छात्र बडे़ ध्यान से सुन रहे थे ..

अचानक एक ने पूछा , सर लेकिन आपने यह नहीं बताया
कि " चाय के दो कप " क्या हैं ?

प्रोफ़ेसर मुस्कुराये , बोले .. मैं सोच ही रहा था कि अभी तक ये सवाल किसी ने क्यों नहीं किया ...
इसका उत्तर यह है कि , जीवन हमें कितना ही परिपूर्ण और संतुष्ट लगे , लेकिन
अपने खास मित्र के साथ दो कप चाय पीने की जगह हमेशा होनी चाहिये ।

( अपने खास मित्रों और निकट के व्यक्तियों को यह विचार तत्काल बाँट दो .. मैंने अभी - अभी यही किया है)

A professor of philosophy came to class and told the students that they
Are teaching an important lesson of life today ...

He brought with him a large glass Bernie (jar) and placed it on the table
Table tennis balls until putting and then bearing left not a single ball instead of a par ...
He asked the students - what Bernie is full? Yes ...
Voice ...
Then Professor Sahib small - small gravel fill openings therein h slowly - slowly shook awful lot Barani gravel where it was empty, and had chosen,
Asked Professor Sir again, now Bernie is full, students once again said yes ...
Now Professor Sir bag of sand softly - softly began to pour sand in the Barani, the sand in the jar that sat where it was possible, so students laughed at his innocence ...
Then asked Professor Sir, why is full right now so it's Bernie? Yes
.. Is now full .. all said in unison ..

Sir from the bottom of the table
He put out two cups of tea in the tea jar, tea lies between the sand
Stroll been absorbed into place ...

Professor Sir started to explain in a serious voice

Bernie the glass .... you guys do with your life

The most important part of table tennis balls or God, family, children, friends, health and hobbies,

Small gravel mean your job, car, largest houses, etc., and

Means sand and small - small useless things, Pique, is fighting ..

Now if you Bernie glass of table tennis balls in the first sand and stones to fill the space runs out, or
Had it been long balls over gravel, sand would definitely return ...
The same thing applies to life ...

If you are small - small things will lay behind
It will destroy your energy so you have more time for the things
Will not ...

What is important for the happiness of mind to you to decide. Its
Play with the kids, put water in the garden, get to hang out with the wife in the morning,
Throw out useless household goods, medical Czech - Get Up ...
Do not worry about table tennis balls first, what is important ... First decide what is important
... The rest is just sand ..
Students elders were listening carefully ..

Suddenly asked, sir, but you did not tell it
That "two cups of tea" are you?

Professor Smiles said .. I was wondering why this question has not yet ...
The answer is, how much we own perfect life and were satisfied, but
Two cups of tea with your special friend should always be replaced.

(Near your special friends and prompt individuals to distribute this idea .. I just - just did)


एक टिप्पणी भेजें

[blogger]

MKRdezign

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.
Javascript DisablePlease Enable Javascript To See All Widget