18+ अच्छी बातें अजब गज़ब अध्यात्म अनोखा अपना देश अमोल दिल से अरे गजब अरे गज़ब अरे बाप रे आध्यात्म आपकी राशि आयुर्वेद आयूर्वेद आश्चर्यजनक इस्लाम उपाय ओशो कविता कहानिया कुण्डली खरी खरी खान-पान गजब के शोध गरम मसाला गृह योग ग्रन्थ चमत्कार चुटकुले जिंदगी ज्योतिष टॉप 10 टोटके त्यौहार दीपावली दुनिया दो लाइन शायरी धर्म नुख्से पूजा प्रेम प्रसंग प्रेरणास्प्रद कहानिया बास्तु-शास्त्र बॉलीवुड ब्यंग्य मंत्र मजेदार मज़ेदार जानकारी मध्यप्रदेश मनोरंजन महाभारत राजनीति राजस्थान लाइव राम चरित्रमानस राष्ट्रीय ख़बरें रोचक जानकारी वायरल सच वास्तु शास्त्र विदेश शायरी शिवपुरी संभोग से समाधि की और सच का सामना सतर्क सदविचार सामाजिक जानकारी सेक्स ज्ञान सोशल मीडिया स्वास्थ्य हँसना मना है हस्त रेखा ज्ञान हिंदू धर्म की महानता हिन्दुओं के प्राचीन 111 मंदिर हिन्दू त्यौहार हिन्दू ब्रत हीर-रांझा ABOUT SHIVPURI adults ajav gajav ALL DOCTORS amol dil se astrologer astrologer in shivpuri atm in svp ayurved BANK bollywood books Breaking News business CHARTERED ACCOUNTANTS CINEMA cloth store coaching and institute college comedy computer sales and service in shivpuri cricket Departments desh desi nukhse devostional devotional DISTRICT ADMINISTRATION doctors Electronics facebook fastivals Festivals financial food free ka gyaan free stuff Friendship fun gk Gwalior health helpline hindi shayari hindu Hindu Dharm history HOSPITAL Hot HOTELS IN SHIVPURI importent in indian culture INDUSTRY IN SHIVPURI Insurance Company internet cafe Jewellers in shivpuri job in shivpuri jobs and careers jokes kahaniya karera kolaras live Latest GK leak video and mms leak video or mms Love Guru Madhav National Park Shiv Madhav National Park Shivpuri Madhya Pradesh make money online mantra medical store mobile phones mobile shop in shivpuri modi Modi Magic National National News net cafe news offers offers in shivpuri osho Osho English PEOPLE Petrol Pump in shivpuri photo gallery photo post photo studio photos plywood and hardware Politics poll projects Property dealers Restaurant sad shayai sad stories Salute samsung saree house save girl child Schools in Shivpuri sher shayari shivpuri shivpuri city Shivpuri News shivpuri police shivpuri tourism shivpuri train Short News spiritual Stationery and printers stories tantra-mantra Tech News Technology teck news telephone numbers Television temples timepaas TIps n tricks Top 10 totke tourism usefull information vastu shastra waterfalls Website Design Development in Shivpuri whatsaap area wonders world

Must read this news before upload any thing on Whatspp or fb

फेसबुक और व्हात्सप्प पर कुछ भी डालने से पहले ये खबर जरूर पड़े 

हाल ही में पुणे पुलिस ने एक आदेश
जारी कर कहा है कि वट्सऐप पर अगर
कोई कंटेंट डाला जाता है और वह आपत्तिजनक है
तो ऐसा कंटेंट डालने वाले शख्स के खिलाफ
कानूनी कार्रवाई होगी। अगर
कंटेंट किसी ग्रुप में डाला जाता है तो वट्सऐप
पर इस तरह का ग्रुप बनाने वाले एडमिन के खिलाफ
भी कार्रवाई होगी।
कानूनी जानकार बताते हैं कि कोई
भी कंटेंट जो कानून की नजर में
गलत है और व कंटेंट अगर नेट व सोशल साइट्स पर
डाला जाता है तो ऐसा कंटेंट डालने वाले शख्स के खिलाफ
कानूनी कार्रवाई किए जाने का प्रावधान है।
सोशल साइट व नेट पर डाले गए कोई भी कंटेंट
जो कानूनी तौर पर गलत है तो उसके लिए
आईटी एक्ट के तहत प्रावधान
किया गया है। दिल्ली हाई कोर्ट के पूर्व
स्टैंडिंग काउंसिल पवन शर्मा बताते हैं कि ऐसा कोई कंटेंट
जो दूसरे की भावनाओं को आहत करता है
या फिर दो समुदाय में नफरत फैलाता है या फिर
मानहानि करता है या फिर किसी तरह से
कानून का उल्लंघन करता है तो ऐसे कंटेंट डालने वाले के
खिलाफ कार्रवाई का प्रावधान है। अगर ऐसा कंटेंट
किसी वट्सऐप ग्रुप में डाला जाता है और
वह सर्कुलेट किया जाता है तो निश्चित तौर पर ग्रुप
एडमिन भी जिम्मेदार होगा। अगर ग्रुप एडमिन
ने ऐसे कंटेंट डालने वाले के खिलाफ कार्रवाई करते हुए उसे
ग्रुप में बैन कर दिया हो और उस कंटेंट
को हटा दिया हो तो यह उसका बचाव
हो सकता है। क्योंकि ऐसे ग्रुप का गलत इस्तेमाल
करना और ऐसे कंटेंट डालना और सर्कुलेट करना इसे
बढ़ावा देने के बराबर है। कोई कंटेट डालता है और
दूसरा अगर उसको लाइक करता है और वह कंटेंट
आपत्तिजनक है तो दोनों के खिलाफ कार्रवाई
हो सकती है।
साइबर मामलों के एक्सपर्ट पवन दुग्गल बताते हैं कि कोई
भी कंटेंट जो आपत्तिजनक है और
कानूनी तौर पर गलत है अगर उसे नेट पर
डाला जाता है तो निश्चित तौर पर ऐसा कंटेंट डालने
वाला शख्स और ग्रुप एडमिन जिम्मेदार होगा।
आपत्तिजनक कंटेंट डालने वाले शख्स और ग्रुप एडमिन
दोनों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी।
अगर ग्रुप एडमिनिस्ट्रेटर को इस तरह के आपत्तिजनक
कंटेंट के बारे में
जारी दी जाती है
और उससे शिकायत की जाती है
तो उसकी जिम्मेदारी बनती है
कि वह तुरंत ऐसे कंटेंट को रिमूव करे। अगर वह इसमें
लापरवाही करता है या फिर कंटेंट
नहीं हटाता तो एडमिन के खिलाफ
भी कार्रवाई होगी।
[ जारी है ]
अगर कोई शख्स सोशल मीडिया या दूसरे
ऑनलाइन मीडियम से किसी और
की भावनाओं को भड़काता है, अफवाह
फैलाता है या फिर किसी और
की छवि खराब करता है, या फिर कोई
भी ऐसी हरकत करता है
जिससे दूसरे की इमेज खराब
हो रही हो या फिर
मानहानि हो रही हो, तो ऐसे में
आईटी एक्ट की धारा-66 ए के
तहत केस दर्ज किए जाने का प्रावधान है। अगर
जानकारी झूठी हो और उस कारण
किसी अन्य शख्स को आघात हुआ
हो या उसका डिफेमेशन हुआ है या फिर दो समुदाय में
नफरत फैली हो या फिर धार्मिक भावनाओं
को ठेस पहुंचा हो तो ऐसे किसी मामले में
आईटी एक्ट के तहत केस दर्ज
हो सकता है।
साइबर मामलों के एक्सपर्ट विराग गुप्ता बताते हैं कि नेट
यूजर्स को आईटी एक्ट के प्रावधानों के बारे में
जानना जरूरी है। एक्ट में कंटेंट डालने वाले
परिभाषित हैं साथ ही जो उसके लिए
प्लैटफॉर्म देता है वह भी परिभाषित हैं।
नेट की सामग्री के लिए प्लेटफॉर्म
देने वाले इंटरमेडियरी कहे जाते हैं और
उन्हें आईटी एक्ट की धारा-79
के तहत छूट मिली हुई है
यानी उनके खिलाफ एक्शन
नहीं हो सकता।
जहां तक किसी ग्रुप के एडमिन का सवाल
है तो उसे हम एजेंट के तौर पर देख सकते हैं। ऐसे
एडमिन की जिम्मेदारी है
कि उनके ग्रुप में ऐसे लोग शामिल हों जो कोई
गैरकानूनी गतिविधि न करते हों। बावजूद इसके
अगर किसी ने ग्रुप में ऐसा कंटेंट डाला जो कानून
के खिलाफ है तो एडमिन
की जिम्मेदारी बनती है
कि तत्काल उसे रोके और अगर वह
ऐसा नहीं करता तो अपनी जिम्मेदारी से
बच नहीं सकता। आईटी एक्ट
की धारा-66 ए
का दायरा काफी व्यापक है। कोई
भी ऐसा कंटेंट जो कानून के नजर में गलत है,
वह अगर सोशल साइट या फिर नेट के जरिये डाला जाता है
तो वह अपराध की श्रेणी में
आता है और इसके लिए आईटी एक्ट
की धारा-66 ए के तहत केस दर्ज
हो सकता है।
वैसे सरकार ने आईटी ऐक्ट
की धारा-66 ए के तहत होने
वाली गिरफ्तारी के मामले में गाइड
लाइंस जारी कर रखी है।
कानूनी प्रावधानों के मुताबिक
आईटी ऐक्ट की धारा-66 ए के
तहत अगर केस साबित हो जाए तो मुजरिम को अधिकतम
3 साल कैद
की सजा हो सकती है और
साथ
ही जुर्माना भी हो सकता है
इस मामले को जमानती अपराध
की श्रेणी में रखा गया है।

Recently a command Pune police
Having said that, if released on Vtsaep
No content is inserted and it is questionable
Against the man who put this content
Legal action will be taken. If
If the content is put into a group Vtsaep
Who Admin group on against such
Will also take action.
Legal experts point out that no
The content in the eyes of the law
Social sites and content on the net and is wrong
The man who put it up against the inserted content
Provision of legal action.
Social Sites and any content posted on the net
Which is legally wrong for him
Provision under the IT Act
Have been. Former Delhi High Court
Standing Council points out that no such content Pawan Sharma
Does that hurt the feelings of another
Or hate spreads or in two community
Does defamation or in some way
Of having such content violates law
Action against that provision. If this content
Is inserted into a Vtsaep group and
Then surely he is circulated Group
Admin will also be responsible. If the Group Admin
Action against such content while having her
In the banned group and the content
So this is his defense to be removed
Could be. Misuse of such group
And circulated it to such content and pour
Is equal to promote. Puts no content
If he is like another and Content
Offensive action against either
Might be.
Cyber ​​affairs expert Pavan Duggal points out that no
That the content is objectionable and
If it is legally wrong on the Net
Is inserted so definitely putting this content
The man and the group will be responsible administrator.
The man who put objectionable content and Group Admin
Action will be taken against them.
Such objectionable to the group administrator
About content
Is released
And her complaint is
So is his responsibility
He shall immediately remove such content. If he's in it
The negligence or content
Against the administrator does not
Will also take action.
[Continue]
If a person or other social media
Any of the online medium and
Provokes feelings, hearsay
Spreads or else
The image is poor, or no
Does such a thing even
Thereby tarnishing the image of the other
Or having
Getting defamation, then the
-66 A of the IT Act Section
Has registered a case under the provision. If
Information to be false and that the
Another man was hit
Defamation is or her or in two community
Extends or religious hatred
In any such case if offend
Registered a case under IT Act
Could be.
Gupta explains that cyber affairs expert disfavor Net
Users about the provisions of the IT Act
Need to know. Act having content
Are defined only for him
He gives are defined platform.
Net platform for content
Intrmediyri who are called and
Section -79 of the IT Act
Is exempt under
The action against them
Maybe not.
As far as the question of a Group Admin
If we as agents can see it. So
Admin is the responsibility of
Join people in their group who
Unless illegal activity. Despite its
If someone in the group who put such content law
Admin is against
Have a responsibility to
That immediately stopped him and if he
If it does not its responsibility
Can not survive. IT Act
Section -66 A.
The scope is quite broad. Someone
Content that is wrong in the eyes of the law,
It is inserted through the social site or a net
If the offense
Comes and the IT Act
Registered a case under Section -66 A.
Could be.
By the way government IT Act
Being under Section -66 A.
In the case of the arrest Guide
Lines has issued.
According to legal provisions
-66 A of the IT Act Section
Be the case if the perpetrator maximize
3 years imprisonment
The punishment may be
With
It could also be fined
The case bailable offense
Is placed in the category.

Labels: ,

एक टिप्पणी भेजें

[blogger]

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.