Show Mobile Navigation
recentpost

मंगलवार, 30 सितंबर 2014

लेकिन जाते-जाते वह 3 लोगों को जिंदगी दे गईं। but she go 3 people were given life.Unconscious

admin - 8:44:00 am

26/11 मुंबई हमले में शहीद एटीएस
चीफ हेमंत करकरे
की पत्नी कविता करकरे का सोमवार को ब्रेन
स्ट्रोक की वजह से निधन हो गया, लेकिन जाते-जाते वह
3 लोगों को जिंदगी दे गईं।
बेहोशी की हालत में
कविता को पीडी हिंदुजा हॉस्पिटल लाया गया था।
शनिवार को उन्हें ब्रेन हैमरेज हो गया था, जिसके बाद वह होश में
नहीं आईं। डॉक्टर ने बताया कि हैमरेज
की वजह से उनके दिमाग के लिए खून
की सप्लाई रुक गई थी। वह दिल से
जुड़ी समस्याओं से भी जूझ
रही थीं।
सोमवार को उनकी बेटियों के अमेरिका से भारत पहुंचने तक उन्हें
वेंटिलेटर पर रखा गया था। बाद में भाई-बहनों ने अपनी मां के अंग
जरूरतमंद मरीजों को दान देने का फैसला किया। उनकी एक
किडनी 48 साल के शख्स को दान की गई, जो पिछले एक
दशक से डायलिसिस पर जिंदा था।
दूसरी किडनी 59 साल के एक शख्स
को दी गई, जो कि पिछले 7 साल से किडनी मिलने
का इंतजार कर रहा था। करकरे ने 49 साल के एक अन्य शख्स
को भी जिंदगी दी, जो पिछले कुछ सालों से
लिवर फेल होने से जूझ रहा था। इसके अलावा कविता की आंखें एक
हॉस्पिटल के आइ बैंक को दान की गई हैं।
हिंदुजा के डॉक्टर्स ने बताया कि कविता के बच्चों आकाश, सयाली और
जुई ने दुख की घड़ी में गजब की हिम्मत
दिखाई। जब टीओआई ने इस बारे में परिवार से बात करने
की कोशिश की, सयाली ने कहा कि वह इस
वक्त मीडिया से बात नहीं करना चाहतीं।
कविता की हेमंत करकरे से पहली मुलाकात एक
कार्यक्रम में हुई थी, जहां पर वह एक वक्ता के तौर पर पहुंचे
थे। आईपीएस ऑफिसर बनने से पहले हेमंत प्रफेसर थे। करकरे
के निधन के बाद उनका परिवार उनके ऑफिशल रेजिडेंस पर ही रह
रहा है।
मुंबई हमले में हेमंत करकरे के शहीद होने के एक साल बाद 26
नवंबर 2009 को टीओआई को दिए इंटरव्यू में कविता ने अपने पति से
हुई आखिरी मुलाकात को ऐसे बयां किया था, 'पहली बार
डेढ़ महीने के बाद मैं और हेमंत एकसाथ डिनर कर रहे थे।
तभी उन्हें सीएसटी में
गड़बड़ी के बारे में फोन आया। उन्होंने अपने शूज पहने और कार में
बैठकर चले गए।'
करकरे कामा हॉस्पिटल के पास शहीद हुए थे। बाद में
उनकी पत्नी ने प्रशासन पर सवाल उठाए थे कि जब
उनके पति और अन्य साथी 40 मिनट तक हॉस्पिटल के बाहर पड़े
हुए थे, तो उनतक वक्त पर मदद क्यों नहीं पहुंची।
कविता एक कॉलेड में बीएड पढ़ाती थीं।
मंगलवार शाम को उनका अंतिम संस्कार कर दिया गया।




26/11 Mumbai attack martyr ATS

Chief Hemant Karkare

Brain's wife Kavita Karkare on Monday

Died because of stroke, but he go

3 people were given life.

Unconscious

PD Hinduja Hospital was brought to poetry.

Saturday they had a brain haemorrhage, after which it senses

Did not. The doctor said the haemorrhage

Because of blood to the brain

Supply was stopped. From the heart

Facing problems associated

Were.

Their daughters to them on Monday to reach India from USA

Was placed on a ventilator. In the latter part of his mother's siblings

Decided to give alms to the needy patients. His one

Kidney donation was a man of 48 years, the last one

Decade was alive on dialysis.

The second kidney, a man of 59 years

Granted to meet the kidney from the last 7 years

Was waiting. Another 49-year-old man Karkare

Given to life, the last few years

Was battling liver failure. In the eyes of poetry

Hospital have been donated to the Eye Bank.

Doctors said the children's poem Hinduja sky, Sayali and

Jui amazing courage in the hour of sorrow

Visible. When TOI talk to the family about

Tried, Sayali said she

Time did not want to talk to the media.

One of the first meeting of poetry Karkare

The program was, where he arrived as a speaker

Were. Before becoming an IPS officer Hemant were Prof. Karkare

After the death of her family members living at the residence Offishall

's.

Karkare in the Mumbai attacks, a year after the martyrdom of 26

In an interview to TOI November 2009 poem by her husband

The last meeting was held to express that, "for the first time

There are a half months after I had dinner together and Hemant.

Only in the CST

About disturbance call. He wore his shoes in the car

Sitting gone. "

Karkare was killed near Cama Hospital. Later

When his wife questioned the administration

Her husband walked out of the hospital and the other partner 40 minutes

Were, then why not help to them arrived on time.

In a Coled taught poetry bed.

His funeral was on Tuesday evening.


0 comments:

एक टिप्पणी भेजें