18+ अच्छी बातें अजब गज़ब अध्यात्म अनोखा अपना देश अमोल दिल से अरे गजब अरे गज़ब अरे बाप रे आध्यात्म आपकी राशि आयुर्वेद आयूर्वेद आश्चर्यजनक इस्लाम उपाय ओशो कविता कहानिया कुण्डली खरी खरी खान-पान गजब के शोध गरम मसाला गृह योग ग्रन्थ चमत्कार चुटकुले जिंदगी ज्योतिष टॉप 10 टोटके त्यौहार दीपावली दुनिया दो लाइन शायरी धर्म नुख्से पूजा प्रेम प्रसंग प्रेरणास्प्रद कहानिया बास्तु-शास्त्र बॉलीवुड ब्यंग्य मंत्र मजेदार मज़ेदार जानकारी मध्यप्रदेश मनोरंजन महाभारत राजनीति राजस्थान लाइव राम चरित्रमानस राष्ट्रीय ख़बरें रोचक जानकारी वायरल सच वास्तु शास्त्र विदेश शायरी शिवपुरी संभोग से समाधि की और सच का सामना सतर्क सदविचार सामाजिक जानकारी सेक्स ज्ञान सोशल मीडिया स्वास्थ्य हँसना मना है हस्त रेखा ज्ञान हिंदू धर्म की महानता हिन्दुओं के प्राचीन 111 मंदिर हिन्दू त्यौहार हिन्दू ब्रत हीर-रांझा ABOUT SHIVPURI adults ajav gajav ALL DOCTORS amol dil se astrologer astrologer in shivpuri atm in svp ayurved BANK bollywood books Breaking News business CHARTERED ACCOUNTANTS CINEMA cloth store coaching and institute college comedy computer sales and service in shivpuri cricket Departments desh desi nukhse devostional devotional DISTRICT ADMINISTRATION doctors Electronics facebook fastivals Festivals financial food free ka gyaan free stuff Friendship fun gk Gwalior health helpline hindi shayari hindu Hindu Dharm history HOSPITAL Hot HOTELS IN SHIVPURI importent in indian culture INDUSTRY IN SHIVPURI Insurance Company internet cafe Jewellers in shivpuri job in shivpuri jobs and careers jokes kahaniya karera kolaras live Latest GK leak video and mms leak video or mms Love Guru Madhav National Park Shiv Madhav National Park Shivpuri Madhya Pradesh make money online mantra medical store mobile phones mobile shop in shivpuri modi Modi Magic National National News net cafe news offers offers in shivpuri osho Osho English PEOPLE Petrol Pump in shivpuri photo gallery photo post photo studio photos plywood and hardware Politics poll projects Property dealers Restaurant sad shayai sad stories Salute samsung saree house save girl child Schools in Shivpuri sher shayari shivpuri shivpuri city Shivpuri News shivpuri police shivpuri tourism shivpuri train Short News spiritual Stationery and printers stories tantra-mantra Tech News Technology teck news telephone numbers Television temples timepaas TIps n tricks Top 10 totke tourism usefull information vastu shastra waterfalls Website Design Development in Shivpuri whatsaap area wonders world

Devgarh- devo ki bhumi lalitpur up|देवगढ - देवो की भूमि, ललितपुर उप्र


Deoghar, District Lalitpur (Uttar Pradesh) in Lalitpur 32

Miles

Right bank of river Betwa Green -

It is located between picturesque valleys filled | naturally

The place is beautiful, making it more beautiful credited

Here is the rich art | this location 7

Century, ranging from 1 to 7

By century sculpture and construction

Been the main focus of art | Just like Nalanda Education

Was famous for, Deoghar art (particularly sculpture building

Art and architecture) was a major center | Gupta dynasty, Chandel dynasty,

Tomar dynasty, kings Portal ancestry and descent Chauhan

This place has always

Protected and

Contributed to its enrichment | Here is why

Pilgrim's love of art and the art world of our ancestors

Sharda made at this location across from our mind itself

Arises |

The main attraction is Fort Deoghar

Which is on the hill | independent of the Jain religion 41

Temple |

Some incarnations of Vishnu on the hill affiliate Gufaye

Also | Deoghar temple Gupta dashavtar

Pride of India's oldest surviving

One of temples | although it is in a dilapidated state, but

The importance of art here

Is not

Also in the museum and archaeological importance Murtia

Objects of the |

Perhaps the Jain and Hindu deities mentioned in

No

The statue would not be here

Ho | The location of the statue Experiments in Art

Many such images, which in the world and

Get nowhere | Deoghar

On the art of so many intellectuals

Which also has its own Research

Including many overseas | Shantinath here

Seeing the temple of Khajuraho temple and dashavtar

Temples are missing virtually the

Were made later | but in both places

Has its own characteristics | Many Smantaye

Many have Asmantaye |

Khajuraho sculpture is mundane

The sculpture and the spiritual

Unique |

Nagshayi Vishnu, Tirthankar Neminath

Praising Krishna and Balram, twenty-three Parsvnath,

Tirthankar mother Trishala and twenty-three,

Goddess Ambika baby milk as yakshis

Was nursing,

Chakreshvari goddess and demigod Gaumukh

The sculptures, Tirthankar Adinath

Containing statues of coir, instructors and

Murtia of Upadyayon, unique Manstnb,

Walls

Many of the statues were excavated collection etc.

Such a mere idols and Rcnaie

It has been found |

Temple No. 30, which is dedicated to Tirthankar Shantinath

Extremely Atisykari, important, big and famous

Is |

Overall the Deoghar land of the Devo says no

No exaggeration | all of us

Surely there must be times |







देवगढ, जिला ललितपुर (उत्तर प्रदेश) में ललितपुर से ३२
किमी की दूरी पर
बेतवा नदी के दायें किनारे हरी -
भरी सुरम्य घाटियों के मध्य स्थित है |


 प्राकृतिक रूप से
जितना यह स्थान सुंदर है, इसे और अधिक सुंदर बनाने का श्रेय
यहाँ की समृद्ध कला को जाता है | 


यह स्थान ७
वी शताब्दी से लेकर 1७
वी शताब्दी तक मूर्तिकला और निर्माण
कला का मुख्य केंद्र रहा |


 वैसे ही जैसे नालंदा शिक्षा के
लिए प्रसिद्द था, देवगढ कला का (विशेषतया मूर्ती निर्माण
कला और स्थापत्य कला का) प्रमुख केंद्र था | 


गुप्त वंश, चंदेल वंश,
तोमर वंश, प्रतिहार वंश और चौहान वंशी राजाओं ने
भी सदैव इस स्थान
की रक्षा की और
इसकी समृधि में योगदान दिया | 

यहीं कारण है
कि हमारे पूर्वजों के कला प्रेम और कला संसार का तीर्थ
बने इस स्थान पर हमारा मन स्वयं ही श्रदा से भर
उठता है |



यहाँ का मुख्य आकर्षण देवगढ का किला है
जो पहाड़ी पर है | वहां जैन धर्मं से सम्बंधित ४१
मंदिर विद्यमान है|



पहाड़ी पर विष्णु अवतारों से सम्बद्ध कुछ गुफाये
भी है | गुप्त कालीन दशावतार मदिर देवगढ
की शान है और भारत के प्राचीन विद्यमान
मंदिरों में से एक है |


 हालाँकि यह जर्जर अवस्था में है परन्तु
इससे यहाँ की कला का महत्व कम
नहीं हो जाता
इसके अलावा संग्रहालय में कई मूर्तिया और पुरातत्व महत्व
की वस्तुए है |



जैन और हिन्दू धर्म में वर्णित देवी देवताओं में शायद
ही कोई
होगा जिसकी मूर्ती यहाँ नहीं
हो | 


मूर्ती कला में किये गए प्रयोगों के कारण इस स्थान
पर ऐसी कई मूर्तियाँ है, जो संसार में और
कहीं नहीं मिलती है | 


देवगढ
की कला पर तो कई बुद्धिजीवियों ने
अपनी रिसर्च भी की है जिनमे
कई विदेशी भी शामिल है | यहाँ का शांतिनाथ
मंदिर और दशावतार मंदिर देखकर खजुराहों के
मंदिरों की याद आ जाती है जो वस्तुतः इसके
बाद में बने थे | 


परन्तु दोनों ही स्थानों में
अपनी अपनी विशेषताए है | कई समानताये
है, कई असमानताये भी है |



खजुराहों की मूर्तिकला सांसारिक है
वही यहाँ की मूर्तिकला अध्यात्मिक और
अद्वितीय है |



नाग्शायी विष्णु, तीर्थंकर नेमिनाथ
की स्तुति करते कृष्ण और बलराम, तेईस पार्श्वनाथ,
माता त्रिशला और तेईस तीर्थंकर,
देवी अम्बिका यक्षी के रूप में बच्चे को दूध
पिलाती हुई,


चक्रेश्वरी देवी और गोमुख यक्ष
की मूर्तियाँ , तीर्थंकर आदिनाथ
की जटा युक्त प्रतिमाये, आचार्यों और
उपाध्यायों की मूर्तिया, अनूठे मानस्तंभ,
दीवारों पर
खोदी गयी मूर्तियों का संग्रह आदि कई
ऐसी मूर्तियाँ एवं रचनाये है जो मात्र
यहीं पाए गए है |


मंदिर नंबर ३० जो तीर्थंकर शांतिनाथ को समर्पित है
अत्यंत अतिशयकारी, महत्त्वपूर्ण, बड़ा और प्रसिद्ध
है |


कुल मिलाकर यदि देवगढ को देवो की भूमि कहे तो कोई
अतिशयोक्ति नहीं होगी| हम सबको एक
बार वहां ज़रूर जाना चाहिए |

Labels: ,

एक टिप्पणी भेजें

[blogger]

Author Name

संपर्क फ़ॉर्म

नाम

ईमेल *

संदेश *

Blogger द्वारा संचालित.