14 ways to please Mother Lakshmi घर में लक्ष्मी जी का वास करने और बरक्कत लाने के 14 उपाय

1. Find praises Avsy morning at home for a while.

2. By raising ever sweep at home
No Place, Find her feet, not
Otherwise it passes over his house Barkat
Haljadhu decreases
Always keep hiding.

3. Never eat food sitting on the bed, so the nightmares
Come.

4. Scatter around in house shoes or vice versa, by directly
Should not to create disturbance in the house
Occurs.

5. Morning worship posture laying on the ground between 6 to 8 pm
Sit facing east or north
Should be Lpuja perfect posture exercises or of Sage
Is.

6. Remove bread to carry for the first cow
Gods are happy and
Peace to ancestors.
Keep a pitcher of water filling

7. puja always at home as much as possible
May be in part of nort heast.

8. Aarti, lamp, fire ritual purity as
Bujaan symbol means not blowing from the mouth.

9. The temple incense, incense sticks and incense pool
Keep in Southeast ie content of igneous
Angle.

10. Create a swastika on the right side of the main door of the house.

11. Do not look any webs in the house, or else fortune
And appears to be on karma and disruption webs.

12. Of course sea salt or rock salt once a week
Wipe home .
It removes negative energy .

13. Try holding rays of morning light
Reach Your worship must first house.

14. Is a prestigious idol worship in the house
Then surely his prayers everyday
Such a system ....



१. घर में सुबह सुबह कुछ देर के लिए भजन अवशय लगाएं ।

२. घर में कभी भी झाड़ू को खड़ा करके
नहीं रखें, उसे पैर नहीं लगाएं, न
ही उसके ऊपर से गुजरे अन्यथा घर में बरकत
की कमी हो जाती है।झाड़ू
हमेशा छुपा कर रखें |

३. बिस्तर पर बैठ कर कभी खाना न खाएं,ऐसा करने से बुरे सपने
आते हैं ।

४. घर में जूते-चप्पल इधर-उधर बिखेर कर या उल्टे सीधे करके
नहीं रखने चाहिए इससे घर में अशांति उत्पन्न
होती है।

५. पूजा सुबह 6 से 8बजे के बीच भूमि पर आसन बिछा कर
पूर्व या उत्तर की ओर मुंह करके बैठ कर
करनी चाहिए ।पूजा का आसन जुट अथवा कुश का हो तो उत्तम
होता है |

६. पहली रोटी गाय के लिए निकालें ।इससे
देवता भी खुश होते हैं और
पितरों को भी शांति मिलती है |

७.पूजा घर में सदैव जल का एक कलश भरकर रखें जो जितना संभव
हो ईशान कोण के हिस्से में हो |

८. आरती, दीप, पूजा अग्नि जैसे पवित्रता के
प्रतीक साधनों को मुंह से फूंक मारकर नहीं बुझाएं।

९. मंदिर में धूप, अगरबत्ती व हवन कुंड
की सामग्री दक्षिण पूर्व में रखें अर्थात आग्नेय
कोण में |

१०. घर के मुख्य द्वार पर दायीं तरफ स्वास्तिक बनाएं।

११. घर में कभी भी जाले न लगने दें,वरना भाग्य
और कर्म पर जाले लगने लगते हैं और बाधा आती है |

१२. सप्ताह में एकबार जरुर समुद्री नमक अथवा सेंधा नमक से
घर में पोछा लगाएं |इससे नकारात्मक ऊर्जा हटती है |

१३. कोसिस करें की सुबह के प्रकाश की किरने
आपके पूजा घर में जरुर पहुचे सबसे पहले |

१४. पूजा घर में अगर कोई प्रतिष्ठित मूर्ती है
तो उसकी पूजा हर रोज निश्चित रूप से
हो ऐसी व्यवस्था करें ....

इस ब्लॉग से लोकप्रिय पोस्ट

2 दो और 4 चार लाइन शायरी Do Or Chaar Line Touching Shayari

हीर-रांझा के प्यार की कहानी- Love story of heer ranjha part-2